Friday, August 30, 2013

हे राम आशाराम




















हे राम 
आशाराम 
राम राम 
जमीनों  का अतिक्रमण
लड़कियों का यौन शोषण 
भ्रष्‍ट तरीको से पैसा  कमाना
आस्था के नाम पर भावनाओं  से खिलवाड़
क्या ऐसे  होते हैं बाबा
सभी अपने नैनों को खोले 
चंगुल से आज़ाद हो जाओ
कि कहीं अगला नंबर आपका ना हो
क्या हमें जरूरत है ऐसे  डोंगी  की 
जाना है तो नारायण की शरण में जाओ
शिव की शरण में जाओ 
और अपना जीवन सफल बनाओ
हमारे पास ज्ञान के लिये गीता है 
वेद है 
फिर भी हम  बाबाओ के जाल में कैसे फंस जाते है
दुनिया को मोहमाया से मुक्त होने का संदेश देने वाला
खुद समधी का बहाना बना कर
पुलिस से बचना चाह रहा है 
क्या बहाना लगाया है पुलिस से बचने का !
ये बापू और वो बापू 
गुजरात की ही धरती पर के दो अलग अलग उदाहरण 
एक बेचारी नाबालिक लड़की के साथ
जिसका सारा परिवार इसको भगवान मानता हो
लड़की के पिता ने अपनी जमीन आश्रम  के लिये दे दी हो 
वो ही बाप आज कानून का दरवाज़ा खटखता रहा है
सी बी आई  जांच की मांग करता है 
और कह रहा है 
अगर पिता गलत है तो फाँसी  दे दो 
नही तो  बाबा को
अंधविश्वास को समाज मे फ़ैलाने बाला 
लोगों को बहकाने वाला  आज बाबा बना बेठा है 
और अंधविश्वास के खिलाफ मुहिम चलाने  वाले 
दाभोलकर जैसे  समाजसुधारो को मौत के घाट उतार दिया जाता है
और पुलिस उन हत्यारो को पकड भी नही पाती
क्योंकि हिन्दुस्तान की पब्लिक भी बेबकूफ है
तभी तो इन दुष्टो का धंधा खूब फूलता फलता है
हे राम 
आशाराम 
राम राम



 मदन मोहन सक्सेना

12 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - रविवार -01/09/2013 को
    चोर नहीं चोरों के सरदार हैं पीएम ! हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः10 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - रविवार -01/09/2013 को
    चोर नहीं चोरों के सरदार हैं पीएम ! हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः10 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

    ReplyDelete
  3. आसाराम के कुकर्म की पोथी....सही है एक इंसान किसी केलिए भगवान् नहीं हो सकता...एक वास्तविक रचना...

    ReplyDelete
  4. क्या बात है भाई मदन जी-
    गजब-
    आभार-

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ! सक्सेना जी .
    कोलाज जिन्दगी के : अगर हम जिन्दगी को गौर से देखें तो यह एक कोलाज की तरह ही है. अच्छे -बुरे लोगों का साथ ,खुशनुमा और दुखभरे समय के रंग,और भी बहुत कुछ जो सब एक साथ ही चलता रहता है.
    http://dehatrkj.blogspot.in/2013/09/blog-post.html

    ReplyDelete
  6. क्योंकि हिन्दुस्तान की पब्लिक भी बेबकूफ है......सौ टंच सही बात कही आपने

    ReplyDelete
  7. सच लिखा है इन बाबा के बारे में ...

    ReplyDelete
  8. आशा आज निराशा के अन्धकार में गुप हो गयें ...सब समय का खेल हैं ...
    क्या संजोग की बात हैं अभी अभी हम यहाँ पोस्ट किये इनके बारे में कुछ ...और आपका अपनी रचना पर कमेन्ट पढ़ यहाँ आये तो आपने इनका पुराण लिख डाला हैं ...सच्चाई क्या हैं राम ही जाने ..:)
    http://savita.jagranjunction.com/author/savita

    ReplyDelete
  9. सब समय का खेल हैं ...लिखा अच्छा हैं आपने :)
    अभी अभी हम आपकी कमेन्ट देख अपनी पोस्ट पर यहाँ आये और संजोग की बात देखिये हमने इनके बारे में कुछ लिख पोस्ट किया यहाँ आकर देखा तो आपने इनका पुराण लिखा हैं अब क्या सच हैं भगवान् ही जाने ....

    ReplyDelete
  10. Achchi rachana hai .Un andh bhakto ka kya kiya jae jo bina sach jane aasharam ke paksh me tod fod par utar aaya tha , afsos ki usame mahilaye bhi shamil thi.pata nahi janta kab jagrook hogi.

    ReplyDelete